पारिवारिक ज्ञान ही असली कुंजी है – Hindi Stories

0
821
Hindi Stories
Hindi Stories

पारिवारिक ज्ञान ही असली कुंजी है

Hindi Stories – हिंदी प्रेरक कहानियाँ 


सुबह का समय था, उसी समय गावं की चार औरतें तालाब पर पानी भरने आई और अपना-अपना मटका भरकर आपस में बातें करने बैठ गई, 

पहली औरत बोली, भगवान मेरे जैसा लड़का सबको दे, उसकी आवाज़ इतनी सुरीली है कि सब उसकी आवाज सुनकर मंत्र मुग्ध हो जाते हें

दूसरी औरत बोली कि मेरा लड़का इतना बलवान और ताकतवर है कि सब उसे आज के युग का बलशाली भीम कहते हें |

इस पर तीसरी औरत कहाँ चुप रह सकती थी वह बोली अरे ! मेरा लड़का तो एक बार जो पढ़ लेता हें वह उसको उसी समय याद हो जाता हें और उसे कभी भी भूलता नहीं है

इन सब बातों को सुनकर चोथी औरत कुछ नहीं बोली तो इतने में दूसरी औरत ने कहाँ

“अरे ! बहन आपका भी तो एक लड़का है आप उसके बारे में कुछ नहीं बोलना चाहती हो” क्या उसमे कोई भी गुण नहीं है

इस पर से उसने कहाँ मै क्या कहू वह ना तो बलवान हें और ना ही अच्छा गाता है, यह सुनकर चारो स्त्रियों ने मटके उठाए और अपने गावं कि और चल दी

तभी कानो में कुछ सुरीला सा स्वर सुनाई दिया

पहली औरत ने कहाँ “देखा ! मेरा पुत्र आ रहा है वह कितना सुरीला गान गा रहा है” पर उसने अपनी माँ को नही देखा और उनके सामने से निकल गया

अब दूर जाने पर एक बलवान लड़का वहाँ से गुजरा उस पर दूसरी औरत ने कहाँ, “देखो ! मेरा बलशाली पुत्र आ रहा है” पर उसने भी अपनी माँ को नही देखा और सामने से निकल गया

तभी दूर जाकर मंत्रो के उच्चारण की ध्वनि उनके कानो में पड़ी तभी तीसरी औरत ने कहाँ “देखो ! मेरा बुद्धिमान पुत्र आ रहा है” पर वह भी श्लोक कहते हुए वहाँ से उन दोनों कि भांति निकल गया

तभी वहाँ से एक और लड़का निकला वह उस चोथी औरत का पूत्र था

वह अपनी माता के पास आया और माता के सर पर से पानी का घड़ा ले लिया और गाँव कि और चल पढ़ा

यह देख तीनों औरतें चकित रह गई, मानो उनको साप सुंघ गया हो,

वे तीनों उसको आश्चर्य से देखने लगी तभी वहाँ पर बैठी एक वृद्ध महिला ने कहाँ “देखो इसको कहते हें सच्चा पुत्र”

दोस्तों सबसे पहला और सबसे बड़ा ज्ञान संस्कार का होता हें जो किसी और से नहीं बल्कि स्वयं हमारे माता-पिता से प्राप्त होता है फिर भले ही हमारे माता-पिता शिक्षित हो या ना हो, यह ज्ञान उनके अलावा दुनिया का कोई भी व्यक्ति नहीं दे सकता है

“इसीलिए कहा गया है पारिवारिक ज्ञान ही, ज्ञान की असली कुंजी है”


आपको यह कहानी कैसी लगी कृप्या comment करके हमें जरुर बताएं….. आपका जीवन खुशियों से भरा रहे…

LEAVE A REPLY