Bihari Ke Dohe | Bihari Ke Dohe Hindi Arth Sahit | बिहारी...

Bihari Ke Dohe | Bihari Ke Dohe Hindi Arth Sahit | बिहारी जी के दोहे हिंदी अर्थ सहित

0
590
Bihari Ke Dohe
Bihari Ke Dohe

bihari ke dohe,bihari ke dohe in hindi,bihari dohe,bihari lal ke dohe,hindi dohe,Bihari Ke Dohe Hindi Arth Sahit, Dohe, Dohe in hindi

Bihari Ke Dohe


Bihari Ke Dohe Hindi Arth Sahit : रीति काल के कवियों में बिहारी सर्वोपरि माने जाते हैं। सतसई बिहारी की प्रमुख रचना हैं। इसमें 713 दोहे हैं। बिहारी के दोहों के संबंध में किसी ने कहा हैः

सतसइया के दोहरा ज्यों नावक के तीर।
देखन में छोटे लगैं घाव करैं गम्भीर।।


Bihari Ke Dohe : Dohe in Hindi

बिहारी जी के दोहे हिंदी अर्थ सहित


दोहा : सोहत ओढ़ैं पीतु पटु स्याम, सलौनैं गात। मनौ नीलमनि सैल पर आतपु परयौ प्रभात॥  

अर्थ : इस दोहे में कवि ने कृष्ण के साँवले शरीर की सुंदरता का बखान किया है। कवि का कहना है कि कृष्ण के साँवले शरीर पर पीला वस्त्र ऐसी शोभा दे रहा है, जैसे नीलमणि पहाड़ पर सुबह की सूरज की किरणें पड़ रही हैं।

Bihari Ke Dohe


दोहा : कहलाने एकत बसत अहि मयूर, मृग बाघ। जगतु तपोवन सौ कियौ दीरघ दाघ निदाघ।।

अर्थ : इस दोहे में कवि ने भरी दोपहरी से बेहाल जंगली जानवरों की हालत का चित्रण किया है। भीषण गर्मी से बेहाल जानवर एक ही स्थान पर बैठे हैं। मोर और सांप एक साथ बैठे हैं। हिरण और बाघ एक साथ बैठे हैं। कवि को लगता है कि गर्मी के कारण जंगल किसी तपोवन की तरह हो गया है। जैसे तपोवन में विभिन्न इंसान आपसी द्वेषों को भुलाकर एक साथ बैठते हैं, उसी तरह गर्मी से बेहाल ये पशु भी आपसी द्वेषों को भुलाकर एक साथ बैठे हैं।

Bihari Ke Dohe


दोहा : बतरस लालच लाल की मुरली धरी लुकाइ। सौंह करैं भौंहनु हँसै, दैन कहैं नटि जाइ॥

अर्थ : इस दोहे में कवि ने गोपियों द्वारा कृष्ण की बाँसुरी चुराए जाने का वर्णन किया है। कवि कहते हैं कि गोपियों ने कृष्ण की मुरली इस लिए छुपा दी है ताकि इसी बहाने उन्हें कृष्ण से बातें करने का मौका मिल जाए। साथ में गोपियाँ कृष्ण के सामने नखरे भी दिखा रही हैं। वे अपनी भौहों से तो कसमे खा रही हैं लेकिन उनके मुँह से ना ही निकलता है।

Bihari Ke Dohe


दोहा : कहत, नटत, रीझत, खिझत, मिलत, खिलत, लजियात। भरे भौन मैं करत हैं नैननु हीं सब बात॥

अर्थ : इस दोहे में कवि ने उस स्थिति को दर्शाया है जब भरी भीड़ में भी दो प्रेमी बातें करते हैं और उसका किसी को पता तक नहीं चलता है। ऐसी स्थिति में नायक और नायिका आँखों ही आँखों में रूठते हैं, मनाते हैं, मिलते हैं, खिल जाते हैं और कभी कभी शरमाते भी हैं।

Bihari Ke Dohe


दोहा : बैठि रही अति सघन बन, पैठि सदन तन माँह। देखि दुपहरी जेठ की छाँहौं चाहति छाँह॥

अर्थ : इस दोहे में कवि ने जेठ महीने की गर्मी का चित्रण किया है। कवि का कहना है कि जेठ की गरमी इतनी तेज होती है की छाया भी छाँह ढ़ूँढ़ने लगती है। ऐसी गर्मी में छाया भी कहीं नजर नहीं आती। वह या तो कहीं घने जंगल में बैठी होती है या फिर किसी घर के अंदर।

Bihari Ke Dohe


दोहा : कागद पर लिखत न बनत, कहत सँदेसु लजात। कहिहै सबु तेरौ हियौ, मेरे हिय की बात॥

अर्थ : इस दोहे में कवि ने उस नायिका की मन:स्थिति का चित्रण किया है जो अपने प्रेमी के लिए संदेश भेजना चाहती है। नायिका को इतना लम्बा संदेश भेजना है कि वह कागज पर समा नहीं पाएगा। लेकिन अपने संदेशवाहक के सामने उसे वह सब कहने में शर्म भी आ रही है। नायिका संदेशवाहक से कहती है कि तुम मेरे अत्यंत करीबी हो इसलिए अपने दिल से तुम मेरे दिल की बात कह देना।

Bihari Ke Dohe


दोहा : प्रगट भए द्विजराज कुल, सुबस बसे ब्रज आइ। मेरे हरौ कलेस सब, केसव केसवराइ॥

अर्थ : कवि का कहना है कि श्रीकृष्ण ने स्वयं ही ब्रज में चंद्रवंश में जन्म लिया था मतलब अवतार लिया था। बिहारी के पिता का नाम केसवराय था। इसलिए वे कहते हैं कि हे कृष्ण आप तो मेरे पिता समान हैं इसलिए मेरे सारे कष्ट को दूर कीजिए।


दोहा : जपमाला, छापैं, तिलक सरै न एकौ कामु। मन काँचै नाचै बृथा, साँचै राँचै रामु॥

अर्थ : आडम्बर और ढ़ोंग किसी काम के नहीं होते हैं। मन तो काँच की तरह क्षण भंगुर होता है जो व्यर्थ में ही नाचता रहता है। माला जपने से, माथे पर तिलक लगाने से या हजार बार राम राम लिखने से कुछ नहीं होता है। इन सबके बदले यदि सच्चे मन से प्रभु की आराधना की जाए तो वह ज्यादा सार्थक होता है।


दोहा : कहति नटति रीझति खिझति, मिलति खिलति लजि जात । भरे भौन में होत है, नैनन ही सों बात ॥

अर्थ : नायिका नायक से बातें करती है, नाटक करती है, रीझती है, नायक से थोड़ा खीझती है, वह नायक से मिलती है, ख़ुशी से खिल जाती है, और शरमा जाती है. भरी महफिल में नायक और नायिका के बीच में आँखों से हीं बातें होती है.


दोहा : बतरस लालच लाल की, मुरली धरी लुकाय । सौंह करै, भौंहन हँसै, देन कहै नटि जाय ॥

अर्थ : गोपियों ने कृष्ण की मुरली छिपा दी है. और कृष्ण के मुरली माँगने पर वे उनसे स्नेह करती हैं, भौंहें से आपस में इशारे करके हँसती हैं. कृष्ण के बहुत बोलने पर वो मुरली लौटने को तैयार हो जाती हैं, लेकिन फिर मुरली को वापस छिपा लेती हैं.


दोहा : मेरी भववाधा हरौ, राधा नागरि सोय । जा तन की झाँई परे स्याम हरित दुति होय ।।

अर्थ : हे राधा, तुम्हारे शरीर की छाया पड़ने से तो कृष्ण भी खुश हो जाते हैं. इसलिए तुम मेरी भवबाधा (परेशानी) दूर करो.


दोहा : मोर मुकुट कटि काछनी कर मुरली उर माल । यहि बानिक मो मन बसौ सदा बिहारीलाल ।।

अर्थ : हे कृष्ण, तुम्हारे सिर पर मोर मुकुट हो, तुम पीली धोती पहने रहो, तुम्हारे हाथ में मुरली हो और तुम्हारे गले में माला हो. इसी तरह (इसी रूप में) कृष्ण तुम मेरे मन हमेशा बसे रहो.


दोहा : सतसइया के दोहरा ज्यों नावक के तीर । देखन में छोटे लगैं घाव करैं गम्भीर ।।

अर्थ : सतसई के दोहे वैसे हीं हैं, जैसे नावक के तीर है. ये देखने में छोटे लगते हैं, लेकिन इनमें बड़ी अर्थपूर्ण बातें छिपी होती है.


दोहा : काजर दै नहिं ऐ री सुहागिन, आँगुरि तो री कटैगी गँड़ासा ।।

अर्थ : हे सुहागन तुम काजल मत लगाओ, कहीं तुम्हारी उँगली तुम्हारे गँड़ासे जैसी आँख से कट न जाए.
गँड़ासा – एक हथियार।


दोहा : या अनुरागी चित्त की, गति समुझै नहिं कोइ । ज्यों-ज्यों बूड़ै स्याम रंग, त्यों-त्यों उज्जलु होइ ॥

अर्थ : इस अनुरागी चित्त की गति कोई नहीं समझता है. इस चित्त पर जैसे-जैसे श्याम रंग (कृष्ण का रंग) चढ़ता है, वैसे-वैसे यह उजला होता जाता है

Bihari Ke Dohe


दोहा : नहिं पराग नहिं मधुर मधु नहिं विकास यहि काल । अली कली में ही बिन्ध्यो आगे कौन हवाल ।।

अर्थ : न हीं इस काल में फूल में पराग है, न तो मीठी मधु हीं है. अगर अभी से भौंरा फूल की कली में हीं खोया रहेगा तो आगे न जाने क्या होगा. दूसरे शब्दों में, हे राजन अभी तो रानी नई-नई हैं, अभी तो उनकी  युवावस्था आनी बाकि है. अगर आप अभी से हीं रानी में खोए रहेंगे, तो आगे क्या हाल होगा.
राजा जय सिंह अपनी नई पत्नी के प्रेम में इस कदर खो गए थे कि राज्य की ओर उन्होंने बिल्कुल ध्यान देना बंद कर दिया था. तब बिहारी ने इस दोहे को लिखा।

Bihari Ke Dohe


Request : कृपया अपने comments के माध्यम से बताएं कि बिहारी जी के दोहे हिंदी अर्थ सहित का यह संकलन आपको कैसा लगा

If you like Bihari Ke Dohe, its request to kindly share with your friends on FacebookGoogle+Twitter, and other social media sites

दोस्तों ऐसे अच्छे Post लिखने में काफी समय लगता है, आपके comments से हमारा Motivation Level बढ़ता है आप comment करने के लिए एक मिनट तो निकाल ही सकते है

Read Mega Collection of Best Hindi Quotes,Thoughts in Hindi, Quotes in Hindi, Suvichar, Anmol Vachan, Status in Hindi & Slogans from Great Authors : पढ़िए महापुरषों के सर्वश्रेष्ठ हिंदी शुद्ध विचारों और कथनों का अद्भुत संग्रह

List of all Hindi Quotes : सभी विषयों पर हिंदी अनमोल वचन का अद्भुत संग्रह


यह भी पढ़ें :

यह भी पढ़ें :

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY