Dr B R Ambedkar Quotes In Hindi : डॉ बी आर अम्बेडकर...

Dr B R Ambedkar Quotes In Hindi : डॉ बी आर अम्बेडकर के शुद्ध विचार एवं प्रसिद्ध कथन

0
714
Dr B R Ambedkar Quotes In Hindi
Dr B R Ambedkar Quotes In Hindi

Dr B R Ambedkar Quotes in Hindi, Dr B R Ambedkar thoughts in hindi, Dr B R Ambedkar ke Suvichar, Dr B R Ambedkar ke  Anmol Vachan, Dr B R Ambedkar Slogans in Hindi, Thoughts of Dr B R Ambedkar In Hindi, Slogans of Dr B R Ambedkar, Quotes By Dr B R Ambedkar, Quotes By Dr B R Ambedkar Best Quotes, डॉ बी आर अम्बेडकर के शुद्ध विचार एवं प्रसिद्ध कथन

Dr B R Ambedkar Quotes In Hindi

डॉ बी आर अम्बेडकर के शुद्ध विचार एवं प्रसिद्ध कथन


Dr B R Ambedkar Quotes In Hindi : “ जब  तक  आप  सामाजिक  स्वतंत्रता  नहीं  हांसिल  कर  लेते, क़ानून  आपको  जो भी  स्वतंत्रता  देता  है  वो  आपके  किसी  काम  की  नहीं”

Dr B R Ambedkar Quotes In Hindi : “ सागर  में  मिलकर  अपनी  पहचान  खो  देने  वाली  पानी  की  एक  बूँद  के  विपरीत, इंसान  जिस  समाज  में  रहता  है  वहां  अपनी  पहचान  नहीं  खोता . इंसान  का  जीवन  स्वतंत्र  है . वो  सिर्फ  समाज  के  विकास  के  लिए  नहीं  पैदा  हुआ   है , बल्कि  स्वयं  के  विकास  के  लिए  पैदा  हुआ  है ”

Dr B R Ambedkar Quotes In Hindi : “ बुद्धि  का  विकास  मानव  के  अस्तित्व  का  अंतिम  लक्ष्य   होना  चाहिए”

Dr B R Ambedkar Quotes In Hindi : “ लोग  और  उनके  धर्म  सामाजिक मानकों  द्वारा;  सामजिक  नैतिकता  के  आधार  पर  परखे  जाने  चाहिए . अगर  धर्म  को  लोगो  के  भले  के  लिए  आवशयक  मान  लिया  जायेगा तो  और    किसी  मानक  का  मतलब  नहीं  होगा ”

Dr B R Ambedkar Quotes In Hindi : “ एक  महान  आदमी  एक  प्रतिष्ठित  आदमी  से  इस  तरह  से  अलग  होता  है  कि  वह  समाज  का  नौकर  बनने  को  तैयार  रहता  है ”

ShudhVichar : “ हर  व्यक्ति  जो  मिल  के  सिद्धांत  कि  एक  देश  दूसरे  देश  पर  शाशन  नहीं  कर  सकता  को  दोहराता  है  उसे  ये  भी स्वीकार  करना  चाहिए  कि  एक  वर्ग  दूसरे  वर्ग  पर  शाशन  नहीं  कर  सकता ”

ShudhVichar : “ इतिहास  बताता  है  कि  जहाँ  नैतिकता  और  अर्थशाश्त्र   के  बीच  संघर्ष  होता  है  वहां  जीत  हमेशा  अर्थशाश्त्र   की  होती  है . निहित  स्वार्थों   को  तब  तक  स्वेच्छा  से  नहीं  छोड़ा गया  है  जब  तक  कि  मजबूर  करने  के  लिए  पर्याप्त  बल  ना  लगाया  गया  हो ”

ShudhVichar : “ एक सफल क्रांति के लिए  सिर्फ असंतोष का होना पर्याप्त नहीं  है, जिसकी  आवश्यकता   है  वो  है  न्याय  एवं   राजनीतिक  और  सामाजिक  अधिकारों  में  गहरी  आस्था ”

ShudhVichar : “ हिंदू धर्म में, विवेक, कारण, और स्वतंत्र सोच के विकास के लिए कोई गुंजाइश नहीं है”

ShudhVichar : “ मैं  ऐसे  धर्म  को  मानता  हूँ  जो  स्वतंत्रता , समानता , और  भाई -चारा  सीखाये”

ShudhVichar : “ आज  भारतीय  दो  अलग -अलग  विचारधाराओं  द्वारा  शाशित  हो  रहे  हैं . उनके  राजनीतिक  आदर्श  जो  संविधान  के  प्रस्तावना  में  इंगित  हैं  वो  स्वतंत्रता  , समानता , और  भाई -चारे  को स्थापित  करते  हैं . और  उनके  धर्म  में  समाहित  सामाजिक  आदर्श  इससे  इनकार  करते  हैं ”

ShudhVichar : “ मैं  किसी  समुदाय  की  प्रगति  महिलाओं  ने  जो  प्रगति  हांसिल  की  है  उससे  मापता  हूँ ”

ShudhVichar : “ मनुष्य  नश्वर  है . उसी  तरह  विचार  भी  नश्वर  हैं . एक  विचार  को  प्रचार -प्रसार  की   ज़रुरत  होती  है , जैसे  कि  एक  पौधे  को  पानी  की . नहीं  तो  दोनों  मुरझा  कर  मर  जाते हैं ”

ShudhVichar : “ जीवन  लम्बा  होने  की  बजाये  महान  होना  चाहिए ”

ShudhVichar : “ क़ानून  और  व्यवस्था  राजनीतिक  शरीर  की  दवा  है  और  जब  राजनीतिक  शरीर  बीमार  पड़े  तो  दवा  ज़रूर  दी  जानी  चाहिए ”

ShudhVichar : “ हमारे  पास  यह  स्वतंत्रता  किस  लिए  है ? हमारे  पास  ये  स्वत्नत्रता  इसलिए  है  ताकि  हम  अपने  सामाजिक  व्यवस्था , जो  असमानता , भेद-भाव  और  अन्य   चीजों  से  भरी  है , जो  हमारे  मौलिक  अधिकारों  से  टकराव  में  है  को  सुधार  सकें ”

ShudhVichar : “ हम  भारतीय  हैं , पहले  और   अंत  में ”

ShudhVichar : “ पति- पत्नी  के  बीच  का  सम्बन्ध   घनिष्ट  मित्रों  के  सम्बन्ध   के  सामान  होना  चाहिए ”

ShudhVichar : “ सागर  में  मिलकर  अपनी  पहचान  खो  देने  वाली  पानी  की  एक  बूँद  के  विपरीत , इंसान  जिस  समाज  में  रहता  है  वहां  अपनी  पहचान  नहीं  खोता . इंसान  का  जीवन  स्वतंत्र  है . वो  सिर्फ  समाज  के  विकास  के  लिए  नहीं  पैदा  हुआ   है , बल्कि  स्वयं  के  विकास  के  लिए  पैदा  हुआ  है ”

ShudhVichar : “ यदि  हम  एक   संयुक्त  एकीकृत  आधुनिक  भारत  चाहते  हैं  तो  सभी  धर्मों  के  शाश्त्रों  की  संप्रभुता  का  अंत  होना  चाहिए ”

ShudhVichar : “ जब  तक  आप  सामाजिक  स्वतंत्रता  नहीं  हांसिल  कर  लेते  , क़ानून  आपको  जो भी  स्वतंत्रता  देता  है  वो  आपके  किसी  काम  की  नहीं ”

ShudhVichar : “ राजनीतिक  अत्याचार  सामाजिक  अत्याचार  की  तुलना  में  कुछ  भी  नहीं  है  और  एक  सुधारक  जो  समाज  को  खारिज  कर  देता  है  वो   सरकार  को  ख़ारिज  कर  देने  वाले   राजनीतिज्ञ  से  कहीं अधिक  साहसी  हैं ”


Request : कृपया अपने comments के माध्यम से बताएं कि डॉ बी आर अम्बेडकर के शुद्धविचार का यह संकलन आपको कैसा लगा

If you like Dr B R Ambedkar Quotes In Hindi, its request to kindly share with your friends on FacebookGoogle+Twitter, and other social media sites

दोस्तों ऐसे अच्छे Post लिखने में काफी समय लगता है, आपके comments से हमारा Motivation Level बढ़ता है आप comment करने के लिए एक मिनट तो निकल ही सकते है

Read Mega Collection of Best Hindi Quotes,Thoughts & Slogans from Great Authors : पढ़िए महापुरषों के सर्वश्रेष्ठ हिंदी शुद्ध विचारों और कथनों का अद्भुत संग्रह

List of all Hindi Quotes : सभी विषयों पर हिंदी शुद्ध विचारों का अद्भुत संग्रह


यह भी पढ़े : सबसे ज्यादा पढ़ी जाने वाली Biography :

यह भी पढ़ें :

यह भी पढ़ें :

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY