Essay on Self-Reliance in Hindi : स्वावलंबन पर निबन्ध

0
25
Essay on Self-Reliance in Hindi
Essay on Self-Reliance in Hindi

Essay on Self-Reliance in Hindi, स्वावलंबन पर निबन्ध, Self-Reliance Essay in Hindi, swavalamban ka mahatva in hindi, swavalamban par Nibandh, Essay on swavalamban in Hindi

Essay on Self-Reliance in Hindi

स्वावलंबन पर निबन्ध


स्वावलम्बन की एक झलक पर, न्योछावर कुबेर का कोष

नाभिषेको न संस्कारो सिंहस्य क्रियते मृगे।
विक्रमार्जित राजस्य स्वमेव मृगेन्द्रता॥

अथार्त वन के जीवों द्वारा सिंह का न तो अभिषेक किया जाता है और न ही सिंह का कोई संस्कार सम्पन्न होता है, बल्कि वह अपने पराक्रम से अर्जित राज्य का स्वयं राजा बनता है।

यह सच है कि स्वाधीनता की भावना, स्वावलम्बन का गुण मनुष्य की मनुष्यता का ही एक अंग है। इसके अभाव में व्यक्ति को न केवल समाज हेय दृष्टि से देखता है, बल्कि व्यक्ति भी स्वयं को अत्यन्त गिरा हुआ महसूस करता है। परावलम्बी के अन्दर हमेशा एक आत्मग्लानि की भावना मौजूद रहती है, जिससे उसका समग्र व्यक्तित्व निरन्तर क्षीण होता जाता है।

स्वावलम्बन से मनुष्य की उन्नति होती है और वह निरन्तर सफलता की नई ऊँचाइयों को छूता जाता है। शास्त्रों में भी कहा गया है कि स्वयं अर्जित किए गए धन का उपभोग करने में एक अकथनीय सुख की प्राप्ति होती है।

“यल्लमसे निज कनुपातम्वित्त विनोदय चित्तम्।”

स्वावलम्बन से मनुष्य को उज्ज्वल यश मिलता हैजिस व्यक्ति ने जीवन के कॉटों को न गिनते हुए अपने कठोर परिश्रम द्वारा अपने लक्ष्य को हासिल करने में सफलता प्राप्त की है, उस व्यक्ति की समाज हमेशा प्रशंसा करता है, उसे सम्मान एवं श्रद्धा की दृष्टि से देखता है। स्वावलम्बी मनुष्य अपनी मृत्यु के पश्चात् भी अपने यशरूपी शरीर से अपने परिवार एवं समाज के लिए जीवित रहकर भावी पीढ़ियों का मार्ग-दर्शन करता है। स्वावलम्बन का गुण व्यक्ति को कर्मवीर बनाता है।

आत्मनिर्भरता व्यक्ति में अद्भुत आत्मविश्वास उत्पन्न करती है तथा आत्मविश्वासी एवं कर्मठ व्यक्ति दुनिया का ऐसा कौन-सा कार्य है जिसे सफलतापूर्वक नहीं कर सकता है?

कहा जाता है कि पराधीन होकर स्वर्ग में सुख भोगने से अच्छा है स्वाधीन होकर नरक में कष्ट सहना, क्योंकि स्वाधीनता का जो सुख है, वह सबसे विशिष्ट एवं अतुलनीय है। यह स्वाधीनता वस्तुत: स्वावलम्बन से ही उत्पन्न होती है। स्वावलम्बी व्यक्ति ही स्वाधीन जीवन के आनन्द का उपभोग कर सकता है। स्वावलम्बन ही जीवन है

यह अमृत का अक्षय स्रोत है। परावलम्बी व्यक्ति को ईश्वर सब कुछ प्रदान करता है, इसके बावजूद वह अपाहिज एवं नीच मानसिकता वाले व्यक्ति से भी पतित होती है, क्योंकि वह पशु सदृश है। पशु ही नहीं, बल्कि वह मृत पशु है। जिस समाज एवं देश में ऐसे मृतक समान मनुष्य रहते हैं, उस देश एवं समाज की सम्भावित क्षमता क्या होगी? ऐसा समाज तो उस कब्रिस्तान के समान है, जहाँ मृत व्यक्ति कब्रों में दफनाएँ नहीं गए हैं, बल्कि चलते-फिरते नज़र आते हैं।
राष्ट्रकवि मैथिलीशरण गुप्त ने उचित ही लिखा है कि

‘यह पापपूर्ण पराबलम्बन चूर्ण होकर दूर हो,
फिर स्वावलम्बन का हमें प्रिय पुण्य पाठ पढ़ाइए।

स्वावलम्बन वह गुण है, जो जीवन की कठिन राह को आसान बना देता है। दुनिया का सबसे बड़ा खज़ाना भी इसके सामने तुच्छ है। खजाना खाली हो सकता है, लेकिन स्वावलम्बी व्यक्ति तो कई खज़ानों का निर्माण कर सकता है। वास्तव में स्वावलम्बी व्यक्ति ही कर्मठ एवं दृढ़ निश्चयी होता है। कर्मठता एवं दृढ़ संकल्प के मौजूद रहने पर पूरी दुनिया की सम्पत्ति व्यक्ति के राह में बिछी रहती है।

उसके लिए कुबेर के खज़ाने का भी अधिक महत्व नहीं है। वह यदि हृदय से कोई भी खज़ाना निर्मित करना चाहे, तो अपने पौरुष के दम पर ऐसा कर सकता है, क्योंकि स्वावलम्बी व्यक्ति में ही पुरुषार्थ भी छिपा होता है।

जो लोग बिना अपनी योग्यता एवं सामर्थ्य के किसी दूसरे की सहायता से ऊँचाई पर पहुँच जाते हैं, वे एक हल्के से आघात से ही नीचे आ जाते हैं। दूसरों का अधिक सहयोग हमारी स्वाभाविक क्षमता के विकास में बाधक बनता है। जब हम दूसरों का सहारा लेते हैं, तो अपने पैरों को मज़बूत बनाने का प्रयास ढीला पड़ जाता है। इसके अतिरिक्त, दूसरों के सहारे में एक अलग ढंग की अनिश्चितता होती है। जिस देश के नागरिक स्वावलम्बी होते हैं, उस देश में भुखमरी, बेरोज़गारी, निर्धनता जैसी सामाजिक समस्याएँ नहीं के बराबर होती हैं, वह उत्तरोत्तर उन्नति करता जाता है।

जापान का उदाहरण दुनिया के सामने है, चाहे वह परमाणु बम का ध्वंस हो या सुनामी का कहर। जापान की स्वावलम्बी जनता ने यह सिद्ध कर दिया कि सफलता एवं समृद्धि वस्तुत: परिश्रमी एवं स्वावलम्बी व्यक्तियों के ही चरण चूमा करती है।


If you like Essay on Self-Reliance in Hindi, its request to kindly share with your friends on FacebookGoogle+Twitter, Pinterest and other social media sites

दोस्तों ऐसे अच्छे Post लिखने में काफी समय लगता है, आपके comments से हमारा Motivation Level बढ़ता है आप comment करने के लिए एक मिनट तो निकाल ही सकते है

Click here for Whatsapp Status in Hindi

Hindi Quotes Images के लिए यहाँ क्लिक करें

Largest Collection of Biography In Hindi

Big Collection of Health Tips in Hindi

Largest Collection of all Hindi Quotes

Big Collection of Suvichar in Hindi

LEAVE A REPLY