क्षमाशीलता | Hindi Story on Forgiveness

0
595
Forgiveness Hindi Stories
Forgiveness Hindi Stories

क्षमाशीलता

Hindi Story on Forgiveness – Hindi Stories


महान संत श्री हरिबाबा को एक भक्त ने अपने घर भोजन के लिए निमंत्रित किया घर में अँधेरा था, अत: सब्जी तैयार करते समय उसमें घी की जगह भूलवश अरंडी के तेल के डिब्बे में से तेल का प्रयोग हो गया। बाबा भोजन करते समय आलू की सब्जी को स्वादिष्ट बताते हुए, उसे बनाने वाली गृहिणी की प्रशंशा करने लगे।

अरंडी के तेल के कारण हरिबाबा को दस्त लग गए किसी भक्त ने चिंता व्यक्त की तो बाबा ने उत्तर दिया – पेट कई दिन से खराब था, आज जुलाब ले लिया है

जब भोजन कराने वाले भक्त के घर के लोगों को भी अरंडी के तेल की सब्जी खाने के कारण दस्त लगे तब जाकर आश्रमवासियों को यह पता चला कि बाबा को दस्त क्यों लगे?

बाबा को भोजन कराने वाला भक्त भागा-भागा गवाँ (बदायूं) स्थित आश्रम में आया बाबा बोला, महाराज भूलवश घी की जगह अरंडी के तेल में सब्जी बन जाने के कारण आपको बीमार होना पड़ा।

आप कितने क्षमाशील हैं कि आपने मेरी भूल को स्वत: क्षमाकर उस पर पर्दा डाल दिया

बाबा ने ‘हरि बोल-हरिबोल’ के संकीर्तन में उस भक्त को भी शामिल कर लिया।

कहनी की शिक्षा – किसी व्यक्ति को क्षमा करना एक बहुत बड़ा गुण है इसे छोटे लोगों से उम्मीद नहीं करनी चाहिए 


आपको यह कहानी कैसी लगी कृप्या comment करके हमें जरुर बताएं….. आपका जीवन खुशियों से भरा रहे…

यह भी पढ़े : सबसे ज्यादा पढ़ी जाने वाली हिंदी कहानियाँ :

पढ़े कहानियों का विशाल संग्रह : 

LEAVE A REPLY