जूते-चप्पल का गुम होना या टूटना भी इशारा करता है बदकिस्मती की ओर, जानें कैसे : Lal Kitab Kundli

1
107
Lal Kitab Kundli

Lal Kitab, Jyotish Upay in Hindi, Astrology, Lal Kitab Kundli अगर आपके जूते-चप्पल बार बार गम हो जाते है तो आपको सतर्क रहना होगा और कुछ उपाय करने होगें आइयें जानते है इन उपायों के बारें में  —

जूते-चप्पल का गुम होना या टूटना भी इशारा करता है बदकिस्मती की ओर, जानें कैसे

Lal Kitab Kundli


क्या आपके साथ यह समस्या होती है कि जूते-चप्पल काफी कम समय में ही टूट जाते हैं। ज्योतिष के अनुसार बार-बार जूते-चप्पल चोरी होना या खो जाना भी कुछ इशारा करता है। इनके खोने पर आर्थिक हानि तो होती है साथ ही यह शनि दोष की संभावना को भी व्यक्त करता है।

Lal Kitab Kundli

क्या आप जानते हैं कि हमारे शरीर में शनि का वास पैरों में होता है। शनि ग्रह को क्रूर ग्रह माना गया है, इन्हें देवताओं में न्यायाधिश का पद प्राप्त है। सभी के अच्छे-बुरे कर्मों का फल शनिदेव ही देते हैं। ज्योतिष के अनुसार हमारे शरीर में भी सभी ग्रहों के अलग-अलग विशेष स्थान बताए गए हैं। जैसे शनि ग्रह हमारे पैरों का प्रतिनिधित्व करता है।

Lal Kitab Kundli

यदि व्यक्ति के जूते-चप्पल का बार-बार टूट जाते हैं या गुम हो जाते हैं तो समझना चाहिए कि शनि उसके विपक्ष में है। कुंडली में जब शनि अशुभ स्थिति में होता है तो इस प्रकार जूते-चप्पल टूट जाते हैं। पैरों का प्रतिनिधित्व करने वाला शनि अपना अशुभ प्रभाव दिखाने के लिए ऐसा करवाता है। जब ज्यादातर ऐसा होने लगे तो समझ जाना चाहिए शनि देव आपकी बदकिस्मती की ओर इशारा कर रहे हैं। यानी समझें आपके परेशानियों भरे दिन आने वाले हैं।

Lal Kitab Kundli

जब ऐसा बार-बार होने लगे तो शनि संबंधी दोषों को दूर करने के लिए विशेष उपाय करने चाहिए। साथ ही किसी ज्योतिष विशेषज्ञ को कुंडली दिखाकर आवश्यक पूजन आदि करने चाहिए। शनि से बचने के लिए सबसे सरल उपाय है कि प्रति शनिवार शनिदेव को तेल चढ़ाएं। एक कटोरी में तेल लेकर उसमें अपना चेहरा देखें और इस तेल को किसी गरीब व्यक्ति को दान करें।


यहाँ पर पढ़ें लाल लिताब के धन, सफलता, सुख-शांति, घर में बरकत, व्यापार में बढ़ोतरी पाने के और भी असरदार और सिद्ध उपाय : Lal Kitab ke Upay

आपको यह जानकारी कैसी लगी कृप्या comment करके हमें जरुर बताएं….. आपका जीवन खुशियों से भरा रहे…

If you like This Information , its request to kindly share with your friends on FacebookGoogle+Twitter, and other social media sites.

यह भी पढ़े : सबसे ज्यादा पढ़ी जाने वाली Biography :


1 COMMENT

LEAVE A REPLY