Sant Ravidas Quotes In Hindi : रविदास जयंती पर ‘प्रभु की महिमा’...

Sant Ravidas Quotes In Hindi : रविदास जयंती पर ‘प्रभु की महिमा’ श्री रविदास जी की अमृत वाणी

0
3192
Sant Ravidas Quotes In Hindi
Sant Ravidas Quotes In Hindi

Sant Ravidas Quotes In Hindi : रविदास जयंती पर ‘प्रभु की महिमा’ श्री रविदास जी की अमृत वाणी

Sant Ravidas Quotes In Hindi

श्री रविदास जी की अमृत वाणी


संत रविदास जी कहते है कि : हे प्रभु ! मैं क्या कहूँ? जीव को यह भ्रम है कि यह संसार ही सत्य है किंतु जैसा वह समझ रहा है वैसा नही है, वास्तव में संसार असत्य है

यहाँ पर देखें 

संत रविदास जी के दोहे हिंदी अर्थ सहित : Sant Ravidas ji ke dohe in hindi



संत रविदास जी कहते है कि : भ्रम के कारण साँप और रस्सी तथा सोने के गहने और सोने में अन्तर नहीं जाना जाता, किन्तु भ्रम दूर होते ही इनका अन्तर ज्ञान हो जाता है, उसी प्रकार अज्ञानता के हटते ही मानव आत्मा और परमात्मा का मर्म जान जाता है, तब परमात्मा और मनुष्य मे  कोई भेदभाव वाली बात नहीं रहती


संत रविदास जी कहते है कि : स्वामी एक है, और वह अनेक रुपों में सर्वव्यापक है, ‘वह’ सब प्राणियों के भीतर स्वयं प्रतिष्ठित होकर आनन्द ले रहा है ‘वह’ मेरे हाथ से भी अधिक निकट है और बड़ी सहजता से उसकी प्राप्ती हो सकती है


संत रविदास जी कहते है कि : जैसे हवा के कारण सागर मे बड़ी-बड़ी लहरें उठती हैं, और फिर सागर में ही समा जाती हैं, उनका अलग अस्तित्व नहीं होता । इसी प्रकार परमात्मा के बिना मानव का भी कोई अस्तित्व नहीं है


संत रविदास जी कहते है कि : भ्रम के नष्ट होने पर ही प्रभु प्राप्ति संभव है

यहाँ पर देखें

रविदास जयंती पर ‘प्रभु की महिमा’ श्री रविदास जी की अमृत वाणी : Sant Ravidas ji Quotes In Hindi


संत रविदास जी कहते है कि : निराकार प्रभु को अपने आप को समर्पित करने से उस की प्राप्ति होती है पूजा की सभी वस्तुएं संसारिक है


संत रविदास जी कहते है कि : यह पाँच तत्व रुपी मिट्टी का पुतला ( मनुष्य ) मोह-माया में फँसकर सांसारिक कार्य-कलापों में नाच रहा है। यह मोह-माया के प्रभाव में फँसकर देखता, सुनता, बोलता और दौड़ता है


संत रविदास जी कहते है कि : मोह-माया में फसा जीव भटक्ता रहता है। इस माया को बनाने वाला ही मुक्ती दाता है


संत रविदास जी कहते है कि : हरि-हरि सिमरन करने से प्रभु के भक्तजन संसार-सागर से मुक्त हुए हैं, मुक्त हो रहे हैं और मुक्त होते रहेंगे । परमात्मा का हरि नाम हृदय को उज्जवल करने वाला है


संत रविदास जी कहते है कि : हरि सिमरन से भवसागर पार होता है। इस लोक में भी हरि नाम जीवअत्मा का एक मात्र सहारा है


संत रविदास जी कहते है कि : नाम-अमृत से राम-धन मिल मिलता है


संत रविदास जी कहते है कि : हे प्रभु ! तुम चन्दन के सुगन्धित वृक्ष हो और हम संसारिक जीव बेचारे एरंड के गंधहीन और गुणहीन पौधे हैं, किंतु आपकी कृपा से हमें आपके चरणों की संगति प्राप्त हुई है । आपकी सुगंध हमारे अंदर बस गई है, अब हम नीच गंधहीन पौधे से ऊँचे सुगन्ध-युक्त वृक्ष हो गए हैं


Sant Ravidas Quotes In Hindi : प्रभु से विनती – संत की संगत और भक्ति दान दें


Sant Ravidas Quotes In Hindi : प्रभु की शरंण में जा कर विकारों से बचा जा सकता है


Sant Ravidas Quotes In Hindi : हर युग में प्रभु नाम ही प्रमात्मा प्राप्ति का ठीक मार्ग है (कर्म कांड हर युग में वेअर्थ हैं )

Read More On Sant Ravidas go to Wikipedia


Request : कृपया अपने comments के माध्यम से बताएं कि श्री रविदास जी की अमृत वाणी का यह संकलन आपको कैसा लगा

If you like Sant Ravidas Quotes In Hindi, its request to kindly share with your friends on FacebookGoogle+Twitter, and other social media sites

दोस्तों ऐसे अच्छे Post लिखने में काफी समय लगता है, आपके comments से हमारा Motivation Level बढ़ता है आप comment करने के लिए एक मिनट तो निकाल ही सकते है

Read Mega Collection of Best Hindi Quotes,Thoughts in Hindi, Quotes in Hindi, Suvichar, Anmol Vachan, Status in Hindi & Slogans from Great Authors : पढ़िए महापुरषों के सर्वश्रेष्ठ हिंदी शुद्ध विचारों और कथनों का अद्भुत संग्रह

List of all Hindi Quotes : सभी विषयों पर हिंदी अनमोल वचन का अद्भुत संग्रह


यह भी पढ़ें :

यह भी पढ़ें :

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY