What is SEO in Hindi : SEO Kya hai : Learn Search Engine Optimization In Hindi

0
21
What is SEO in Hindi

Search Engine Optimization In Hindi

What is SEO in Hindi


दोस्तों आज मै आपके लिए लाया हूँ एक ऐसा Topic जिसके बिना Digital Marketing अधूरी है, जी हाँ मैं बात कर रहा हूँ SEO बारें में, SEO, Websites Owner के लिए और खास तौर पर New Websites और New Bloggers के एक बहुत ही Important Topic है, इस Post में मैं आपको SEO की वो सारी जानकारी बताऊंगा, जिसको आपको जरुर जानना चाहियें ! तो चलिए दोस्तों जानते है! SEO क्या है?

Search Engine Optimization In Hindi


अगर आप अपना कोई भी Business Online करना चाहते हो या फिर अपनी Website या Blog से, Affiliate Marketing और google Adsense से पैसे कमाना चाहते हो, तो आपको SEO सिखने की जरूरत पड़ेगी, SEO से ही आप अपनी वेबसाइट को google search में First पेज पर ला सकते है, और अपनी Website की Ranking को सुधार सकते है, जब आपकी वेबसाइट की रैंक अच्छी होगी उसी से ही आपकी वेबसाइट का Traffic बढ़ेगा और आपकी income बढेगी, तो चलिए SEO को अच्छी तरह समझते है

अपने Blog या website पर traffic generate करने के लिए वैसे तो बहुत सारे तरीके हैं, लेकिन सबसे बढ़िया कौन सा है? इन तरीकों में Social Traffic, Organic Traffic और Referral Traffic आदि शामिल हैं.

Website या Blog पर जो Traffic हमें Search Engines से मिलता है उसे Organic Traffic कहा जाता है, Organic Traffic को ही सबसे बढ़िया traffic का source माना जाता है

Search Engine Optimization (SEO) के बारे में जानने से पहले Organic traffic और Search Engines के बारे में जान लेते हैं

Search Engines – वैसे तो आज हमारे पास कई सारे Search Engines जैसे Google, Bing, Yahoo, Ask, लेकिन इसमें google Search Engines को ही सबसे अच्छा माना जाता है, क्यों कि विश्व में करीब करीब 80% सर्च ट्रैफिक Google से आता है। Google के बाद सबसे बड़ा सर्च इंजन है Bing

आज हर रोज google में 10 लाख ब्लॉग या website पब्लिश होते है, इससे यह सम्भावना काफी बढ़ जाती है कि Websites की इस भीड़ में हमारी वेबसाइट की रैंकिंग नीचे न हो जाये, अगर आप चाहते हैं कि आपकी वेबसाइट भी गूगल की सेवाओं का फायदा उठा है और उसकी सर्च मैं ऊपर आए तो आपके लिए सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन जानना बहुत ही आवश्यक है

इसे एक Example से समझते है – सर्च इंजन में विश्व का सबसे बड़ा और महत्वपूर्ण सर्च इंजन है Google, आपने खुद गूगल का इस्तेमाल किया होगा किसी चीज के बारे में सर्च करने के लिए, जब हम कुछ search करते है, तो हमारे पास जो Page खुल कर आता है, उसे SERP ( Search Engine Result Page ) कहते है, इस Page पर दो तरह के Result होते है,

  1. Inorganic Result – ये रिजल्ट ऐसी Websites या Blog के होते है, जो अपनी वेबसाइट की Advertisement करते है, और पैसे देकर google search में First पेज पर आते है, ऐसे Traffic को Inorganic Traffic कहा जाता है
  2. Organic Result – ये रिजल्ट ऐसी Websites या Blog के होते है, जो बिना पैसे देकर google search में First पेज पर आते है, यह वे Websites होती है, जो google search के अनुकूल होती है, ऐसे Traffic को को Organic Traffic कहा जाता है और इसी के लिए SEO करा जाता है

अब सवाल ये है कि Websites और Blogs को google search के लिए अनुकूल कैसे बनाया जाये, जिससे की वेबसाइट SERP ( Search Engine Result Page ) के First Page पर आये, इसके लिए search engines ने कुछ नियम बनाये हुए है जिसके अंतर्गत search engine बहुत से factors को ध्यान में रखते हुए search results को rank करता है

अब यह प्रशन उठता है की ऐसे कौन से नियम है? जिन्हें ध्यान में रखते हुए Search Engines, websites या web pages को रैंक करते हैं, उन्ही Factors को जानने का जरिया है – SEO

SEO क्या है? – English में SEO की full form है Search Engine Optimization, इसका सीधा सा अर्थ ये है की अपने website या Blog को Search Engine के लिए optimize करना

दुसरें शब्दों में कहें अपनी website या blog को इस तरह बनाना कि वह search engine में अच्छी positions पर रैंक करके organic traffic gain कर सके को SEO का नाम दिया जाता है

जब हम किसी वेबसाइट का Search Engine Optimization करते है तो उस site की रैंकिंग बढ़ जाती है और उस वेबसाइट पर ढेरों Visitors आते है, जिससे Bloggers और Website Owner ज्यादा पैसा कमा सकते है, और प्रसिद्धी पा सकते है

सबसे पहले तो आपको बताना चाहूँगा कि SEO सीखना या करना कोई मुश्किल काम नहीं है, अगर आप कुछ चीजो को ध्यान में रखेगें और उनकी लगातार प्रक्टिस करेंगें तो आप भी बड़ी आसानी से अपनी वेबसाइट का SEO करके High Organic traffic प्राप्त कर सकते हैं

SEO कैसे करें – SEO के कुछ Important Factors – 

जैसे कि आप जान ही चुके है SEO एक term न हो करके, एक पूरा process है, जो हमें वेबसाइट को SERP ( Search Engine Result Page ) के First Page पर लाने के लिए करना होता है, SEO के कुछ Important Factors है जैसे —

  • Content की Quality
  • Keywords का Use
  • Images और Videos का Use
  • Hyperlinking
  • Backlinks
  • Domain name and Hosting
  • Permalink
  • Sitemap
  • Internal Linking
  • External Linking
  • Site Speed
  • Google Webmaster Tool और Analytics का use

और भी ऐसे बहुत से factors है जिसकी सहायता से हम SEO कर सकते है, इनके बारे हम detail में आगे आने वाले Posts में पढ़ेगें

Types of SEO – SEO कितने प्रकार के होते है –

1. On Page SEO : जब आप अपनी Website या Blog को search Engine Friendly बनाने के लिए, जो Factors आप अपनी site में use करते है, उसे On Page SEO कहते है, इसमें आपको content quality, Text, Images, keyword optimization, title, tags, URL को optimize करना होता है

2. Off page SEO : सर्च इंजन Result के Pages में अपनी रैंकिंग को ऊपर बढाने के लिए अपनी स्वयं की वेबसाइट के बाहर की गई सभी Technics को Off page SEO कहते हैं, इसमें आप mostly link building activities करते हैं जैसे की forums, social media sharing and promotion, guest posting etc.

इनके बारे में भी हम detail में आगे आने वाले Posts में पढ़ेगें

ब्लॉग या वेबसाइट का एसईओ क्यों करवायें – Benefits of SEO

आज कल सर्च इंजन ऑप्टीमाइज़ेशन या एसईओ / Search Engine Optimization – SEO लोकप्रिय Sites के पीछे की प्रमुख रणनीति है। इससे आपकी साइट की अच्छी मार्केटिंग हो सकती है। वेबसाइट का एसईओ अच्छी सर्च इंजन रैंक दिलाने और आपकी साइट को इंटरनेट पर लोकप्रिय बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

1. अधिक वेबसाइट ट्रैफ़िक : growth of website traffic

वे साइटें जिनकी सर्च इंजन में रैंक अच्छी होती है उन साइट पर आने वाले विज़िटर्स की संख्या अधिक होती है। इसप्रकार लोकप्रिय सर्च इंजनों में टॉप पोज़िशन प्राप्त करना आपकी साइट का वेब ट्रैफ़िक बढ़ाता है। सर्च इंजन ऑप्टिमाइज़ेशन अच्छे कीवर्ड वाले लेख और मेटा विवरण के माध्यम से आपकी साइट के पेजों को सर्च इंजन में टॉप पोज़िशन पर ले जाने में मदद करता है। जिससे आपकी वेबसाइट पर अच्छा ट्रैफ़िक आने लगता है।

2. वेबसाइट की अपनी अलग पहचान – Build your own brand

सर्च इंजन में टॉप रैंक दिलाने में वेबसाइट का एसईओ मदद करता है, जिससे ब्लॉग ज़्यादा पाठकों के सामने प्रस्तुत हो पाता है, यदि आपकी वेबसाइट और उसके पेज सर्च इंजन के पहले पेज पर अपना स्थान बना लें तो आपकी साइट को लोकप्रिय होने से कोई नहीं रोक सकता है। इसके लिए आपको अपनी साइट के विषय से सम्बंधित सही कीवर्ड प्रयोग करने चाहिए। सम्भव हो साइट का नाम भी विषय सम्बंधित और कीवर्ड वाला हो जिससे सर्च इंजन में आपकी साइट आसानी से अपनी रैंक बना लें और आपको उसका प्रचार किसी ट्रिक के माध्यम से न करना पड़े। सर्च में सही पोज़िशन प्राप्त करके आपकी वेबसाइट लोकप्रिय और पाठकों को अपनी ओर अधिक आर्कषित करेगी। इससे आपकी वेबसाइट का नाम लोगों के बीच अपनी एक अलग पहचान बना लेगा।

3. वेबसाइट का सही नेवीगेशन – Better site navigation for search bots and human

एसईओ आपकी साइट के डिज़ाइन के लिए भी है जिससे आपकी साइट पर सही लिंक सही जगह जोड़े जाते हैं जिससे पाठकों को उनकी पसंद की सामग्री आसानी से मिल जाये और वे आपकी साइट पर अधिक समय बितायें। न केवल वेबसाइट के पाठक बल्कि सर्च इंजन भी आपकी साइट को आसानी से क्राल / पढ़ कर लेते हैं और सर्च इंजन में आपकी साइट को एक बार में शामिल कर लेते हैं। जिससे आपको सर्च इंजन से नये पाठक मिलते हैं।

4. कम बाउंस रेट – Less bounce rate

वेबसाइट का एसईओ उन पाठकों को आकर्षित करता है जो आपकी साइट से सम्बंधित जानकारी इंटरनेट पर खोजते हैं। एसईओ से आपकी वेबसाइट पर आने वाला ट्रैफ़िक आपको लाभ देता है, जबकि यदि आप किसी ट्रिक का प्रयोग करके अपनी साइट का ट्रैफ़िक बढ़ायें तो आपकी साइट पर आने वाला ट्रैफ़िक आपकी साइट का बाउंस रेट बढ़ा देता है। यानि आपकी वेबसाइट में रुचि न रखने वाले पाठकों की संख्या उन ऐसे पाठकों से अधिक हो जाती है जो आपकी साइट पर किसी लेख या अन्य सामग्री के लिए आते हैं। इस प्रकार एसईओ उन लोगों की संख्या बढ़ाने की कोशिश करता है जो वास्तव में आपकी में रुचि रखते हैं और जिनसे आपकी कमाई बढ़ती है।

5. लागत पर अधिक लाभ – Return on investment

एसईओ रणनीति बनाकर आप बढ़िया परिणाम प्राप्त कर सकते हैं। इससे फ़र्क नहीं पड़ता कि आप प्रोफ़ेशनल वेबसाइट चलाते हैं या कोई ब्लॉग, आप अपनी वेबसाइट से कमाई कर सकते हैं और उसे चलाने में आने वाला खर्च ऑनलाइन निकाल सकते हैं। एसईओ इस बात की गारंटी है कि आपकी वेबसाइट की सर्च में टॉप पोज़िशन प्राप्त करेगी, उसका ट्रैफ़िक बढ़ेगा और आप उससे अच्छी कमाई कर पायेंगे। आप अपनी साइट की परफ़ार्मेंस गूगल एनालिटिक्स का प्रयोग करके जान सकते हैं। गूगल एनालिटिक्स आपको वेबसाइट पर आने वाले पाठकों के बारे में आवश्यक जानकारी देगा और आपको उन कीवर्ड की जानकारी भी देगा जिनका प्रयोग करके वे आपकी वेबसाइट पर पहुँचे।

तो दोस्तों अब तो आपको SEO क्या है, ये अच्छी तरह समझ आ गया होगा, अगर आपका SEO से related कोई Question है तो आप कमेन्ट बॉक्स में पूछ सकते है


If you like What is Digital Marketing in Hindi , its request to kindly share with your friends on FacebookGoogle+Twitter, Pinterest and other social media sites

दोस्तों ऐसे अच्छे Post लिखने में काफी समय लगता है, आपके comments से हमारा Motivation Level बढ़ता है आप comment करने के लिए एक मिनट तो निकाल ही सकते है

LEAVE A REPLY